Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
IPL के कुछ खिलाड़ी अपने आप में हनुमान हैं। उनकी उपस्थिति ही पूरी टीम के लिए हौसले की दीवार है। कई बार ये खिलाड़ी अकेले अपने ही दम पर अपनी पूरी टीम को प्लेऑफ़ तक ले जा चुके हैं। ऐसा ही कारनाम इस बार के IPL सीज़न में भी हुआ है।
दरअसल, IPL का 11वाँ सीज़न अब ख़त्म हो चुका है। रोमाचंक टूर्नामेंट में चेन्नई सुपरकिंग्स ने फाइनल मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद को हराकर अपने नाम IPL का खिताब कर लिया है। ऐसे में अब यह तीसरी बार है, जब चेन्नई सुपरकिंग्स ने अपने IPL का खिताब अपने नाम किया है।
इस बार के IPL में इन कुछ चुनिंदा विदेशी खिलाड़ियों ने अपने दमखम से अपनी टीम को प्वेऑफ़ तक ले गये हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में...
शेन वाटॅसन
सीएसके टीम के सलामी बल्लेबाज शेन वॉटसन ने फाइनल मुकाबले के दौरान धमाकेदार बल्लेबाजी करते हुए सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ शतकीय पारी जड़ डाली। हालांकि, इसके पहले भी वे कई बार अपने बल्ले के दम पर टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभा चुके हैं। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा, कि वे ऐसे विदेशी प्लेयर है, जिन्होने इस सीजन के IPL में अपने प्रदर्शन के दम पर अपनी टीम को प्लेऑफ तक का सफर करवाया।
केन विलियमस
सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियमस न सिर्फ बतौर कप्तान बल्कि बल्लेबाज के तौर पर भी धमाकेदार प्रदर्शन किया। उन्होंने कई दफा अपनी टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभायी। इसी वजह से उनकी टीम फाइनल तक का सफर तय कर पाई।
सुनील नारायण
केकेआर की तरफ से खेलने वाले वेस्टेंडीज़ के खिलाड़ी सुनील नारायण का इस सीजन में गजब का प्रदर्शन रहा है। वे गेंदबाजी के साथ बल्लेबाजी में भी धमाकेदार खेल का प्रदर्शन दिखाया। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा, कि वे इस सीजन के चार विदेशी प्लेयरों में सबसे अहम ऐसे खिलाड़ी बनें, जिन्होंने अपनी टीम को प्ले ऑफ तक का सफर तय करवाया।
जॉस बटलर
राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलने वाले इस इंग्लिश प्लेयर ने अपने प्रदर्शन के दम पर कई मर्तबा अपनी टीम को जीत दिलाने में अहम भूमिका निभायी। उन्होंने बतौर सलामी बल्लेबाज न सिर्फ जमकर रन बरसाए, बल्कि उन्होंने राजस्थान रॉयल्स टीम के लिए मैच विनर भी बने। हालांकि इस लीग को अचानक से ही बीच में छोड़कर उन्हे अपने देश जाना पड़ा। बावजूद इसके उन्होंने प्लेऑफ तक का सफर अपनी टीम को कराने में अहम योगदान निभाया।
YOUR REACTION
  • 0
  • 1
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.