Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
नाबालिग से बलात्कार मामले पर आज जोधपुर कोर्ट ने अपना अहम फैसला सुना दिया है, कोर्ट ने आसाराम को दोषी ठहरा दिया है। कोर्ट ने अपना फैसला POCSO और जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के अंतर्गत सुनाया है। आसाराम के साथ 2 अन्य लोगों को भी इस मामले में दोषी पाया गया, वहीं इसके अलावा दो अन्य आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया है।
हालांकि, इस मामले में ट्विटर पर आसाराम के भक्त बापू को अभी भी उन्हें क्लीन चिट दिलाने की कोशिशों में लगे हैं। ट्वीटर पर #CleanChitToBapuji नाम से ट्रेंड चल रहा है।
इस हैशटैग के जरिए बलात्कारी बापू के भक्त उन्हें अभी भी बेकसूर बता रहे हैं।
यहां देखिए उनकी ये कोशिश-
पीड़िता के पिता ने जताई खुशी-
कोर्ट के फैसले के बाद पीड़िता के पिता ने कहा, “अब हमें न्याय मिला है। साथ ही उन लोगों को भी न्याय मिला है जिनका कत्ल कर दिया गया था या अपहरण किया गया था। मुझे पूरा भरोसा है कि अब आसाराम को कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी। मैं उन सभी लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं, जिन्होंने इस लड़ाई में मेरी मदद की और साथ खड़े रहे।”
क्या है मामला-
मामला अगस्त 2013 का है। तब वह 16 साल की पीड़ित लड़की आसाराम के छिंदवाड़ा आश्रम के कन्या छात्रावास में 12वीं कक्षा में पढ़ाई कर रही थी।
पीड़िता के पिता के पास अचानक 7 अगस्त,2013 को आसाराम के छिंदवाड़ा आश्रम से फोन आता है और उन्हें कहा जाता है कि उनकी बेटी बीमार है। इस पर पीड़िता के पिता वहां पहुंचे तो उन्हे बताया गया कि उनकी बेटी पर भूत-प्रेत का साया है, जिसे केवल आसाराम ही ठीक कर सकते हैं।
पीड़िता के माता-पिता अपनी बेटी के साथ 14 अगस्त को आसाराम से मिलने जोधपुर आश्रम में पहुंचते हैं। इसके अगले दिन इलाज के लिए 15 अगस्त को आसाराम नबालिग लड़की को अपनी कुटिया में बुला लेता है और फिर वहां इलाज के नाम पर लड़की का यौन शोषण करता है।
पीड़िता अपने साथ हुए इस घिनौने अपराध की पूरी जानकारी अपने माता-पिता को देती है। इसके बाद पीड़िता के पिता ने 20 अगस्त,2013 को दिल्ली के कमलानगर पुलिस थाने में इसकी शिकायत दर्ज करवाई। केस जोधपुर का था , तो इसे जोधपुर ट्रांसफर कर दिया गया। जोधपुर पुलिस ने जांच के बाद आसाराम को 30 अगस्त की आधी रात इंदौर स्थित आश्रम से गिरफ्तार कर लिया था।
तब से लेकर अब-तक आसाराम जोधपुर की सेंट्रल जेल में बंद हैं। विभिन्न अदालतों ने आसाराम की 12 जमानत याचिकाओं का खारिज कर डाला है। ट्रायल कोर्ट ने आसाराम की 6 जमानत याचिकाएं, हाईकोर्ट ने 1 और सुप्रीम कोर्ट ने 3 याचिकाओं को खारिज कर किया है।
YOUR REACTION
  • 0
  • 1
  • 0
  • 0
  • 0
  • 1

Add you Response

  • Please add your comment.